GHARELU NUSKHE

Best site for health related problems Gharelu nuskhe and desi nuskhe. Gharelu desi ilaj home remedies घरेलू नुस्खे

About

Thursday, March 2, 2017

कच्‍चे पपीते के स्‍वास्‍थ्‍य लाभ(Crude papaya health benefits)

No comments
कच्‍चे पपीते के स्‍वास्‍थ्‍य लाभ(Crude papaya health benefits)

Papaya

आप पके हुए पपीते का इस्तेमाल अधिक करते हो। यह आपकी सेहत के लिए फायदेमंद होता है। रोज पपीता खाने से इंसान को रोग नहीं लगते हैं। क्या आप कच्चे पपीता खाने के फायदों के बारे में जानते हैं। और यह कितना फायदेमंद होता है हमारे शरीर के लिए। कच्चे पपीता का प्रयोग हम सब्जी बनाने के लिए भी करते हैं। यदि आप कच्चे पपीते की सब्जी नियमित करते रहेगें तो आपको पेट की किसी भी तरह की बीमारी नहीं लगेगी।फल की दुकान में अक्‍सर कच्‍चा पपीता देख कर कुछ लोग उसे नहीं खरीदते , लेकिन यही कच्‍चा पपीता हमारे स्‍वास्‍थ्‍य के लिये कितना लाभकारी होता है, यह आप नहीं जानते। कच्‍चे पपीते की सब्‍जी तो आपने खाई ही होगी लेकिन अगर आप इसे हमेशा खाने की आदत डाल लें तो पेट से संबन्‍धित सारी समस्‍याएं दूर हो सकती हैं। कच्‍चे पपीते में विटामिन, एंजाइम और न्‍यूट्रियंट्स होते हैं, जो कि पेट के रोग को दूर करने के लिये बडे़ ही फादेमंद होते हैं। आइये जानते हैं कि कच्‍चा पपीता खाने से शरीर को और कौन कौन से लाभ होते हैं। 
कब्ज की बीमारी से बचाए:-
फाइबर की भरपूर मात्रा होती है कच्चे पपीते में। जो कब्ज से आपको बचाती है। कच्चे पपीते में मौजूद एंजाइम पेट में गैस को बनने से रोग देते हैं और शरीर से विषैले तत्वों को बाहार निकाल देते हैं साथ ही साथ हमारे पाचन को भी सुधरता है।
पाचन में सुधार करे:-इसमें ऐसे एंजाइम पाए जाते हैं जो पेट में गैस बनने से रोकते हैं और पाचन में सुधार करते हैं।
इम्‍यून सिस्‍टम की मजबूती:- पपीता और उसके बीज में बहुत सारा विटामिन ए, सी और ई हेाता है, जो कि शरीर के इम्‍यून सिस्‍टम को मजबूत बना सकता है। कच्‍चा पपीता सर्दी और जुखा के साथ इंफेक्‍शन से भी लड़ता है।
बढ़ाए मां का दूध : स्तन पान करने वाली मांताओं को कभी कभी दूध की कमी हो जाती है। जिसकी वजह से बच्चे को पूरा पोषण नहीं मिल पाता है।
ऐसे में स्तनपान करवाने वाली माताएं जरूर कच्चे पपीते का सेवन करें। इससे दूध बढ़ने में आसानी से मदद मिलती है। साथ ही आपके शरीर की कमजोरी भी दूर होती है।
मूत्र संक्रमण दूर करे:- महिलाओ में अक्‍सर मूत्र संक्रमण हो जाता है, जिसको दूर करने के लिये कच्‍चा पपीता खाना चाहिये। यह बैक्‍टीरिया बढने से रोकता है।
वजन घाटाने में सहायक:-
अधिक वजन हो गया हो और वह कम ना हो रहा हो तो आप कच्चा पपीता खाएं। कच्चा पपीता आपका वजन तेजी से घटाता हैै। इसमें सक्रिय एंजाइम होते हैं जो वजन को तेजी से कम करते हैं।
रोके बैक्टीरिया को बढ़ने से:-
अक्सर महिलाओं को मूत्र में संक्रमण की समस्या हो जाती है। यदि एैसी समस्य हो गई हो तो आप जरूर कच्चे पपीते का सेवन करें।
आंखों की रोशनी बढ़ाने में :-
पपीते में विटामिन सी तो भरपूर होता ही है साथ ही विटामिन ए भी पर्याप्त मात्रा में होता है. विटामिन ए आंखों की रोशनी बढ़ाने के साथ ही बढ़ती उम्र से जुड़ी कई समस्याओं के समाधान में भी कारगर है
पीरियड्स के दौरान होने वाले दर्द में :-
जिन महिलाओं को पीरियड्स के दौरान दर्द की शिकायत होती है उन्हें पपीते का सेवन करना चाहिए. पपीते के सेवन से एक ओर जहां पीरियड साइकिल नियमित रहता है वहीं दर्द में भी आराम मिलता है

बढ़ती उम्र को रोकने में सहायक :-

पपीते में विटामिन सी, विटामिन ई और बीटा-कैरोटीन जैसे एंटी ऑक्सीडेंट पाए जाते हैं। यह सभी विटामिन त्वचा से झुर्रियों को दूर रखते हैं और असमय होने वाली त्वचा की समस्याओं को भी सही करते हैं। इस फल को रोजाना खाने की आदत आपको लंबे समय तक जवां रखने में मदद करती है।

जलने और कटने को भी ठीक करता है :-

पपीते में एंटी इंनफलेमेट्री गुण पाए जाते हैं। इस गुण के कारण यह सूजन की समस्या को ठीक करता है। साथ ही रगड़, छाले और जले हुए भाग पर कच्चे पपीते का रस लगाने से यह समस्या तेजी से सही हो जाती है।

आपकी प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता है :-

आपका प्रतिरोधक तंत्र आपको बीमार कर देने वाले कई संक्रमणों के विरुद्ध ढाल का काम करता है। केवल एक पपीते में इतना विटामिन सी होता है जो आपके प्रतिदिन की विटामिन सी की आवश्यकता का 200 प्रतिशत होता है। ज़ाहिर तौर पर ये आपके प्रतिरोधक तंत्र को मज़बूत करता है। 

मधुमेह रोगियों के लिए अच्छा है:-

पपीता मधुमेह रोगियों के लिए आहार के रूप में एक बेहतरीन विकल्प है क्योंकि स्वाद में मीठा होने के बावजूद इसमें शुगर नाम मात्र का होता है। साथ ही, वे लोग जो मधुमेह के मरीज़ नहीं हैं, इसे खाकर मधुमेह होने के खतरों को दूर कर सकते हैं।

गठिया रोगों से बचाता है :-

गठिया वास्तव में एक ऐसी बीमारी है जो शरीर को बेहद दुर्बल तो करती ही है जीवनशैली को बुरी तरह प्रभावित भी करती है। पपीते खाना आपकी हड्डियों के लिए बेहद लाभकारी हो सकता है, इनमें विटामिन-सी के साथ-साथ सूजन-रोधी गुण होते हैं जो गठिया के कई रूपों से शरीर को दूर रखता है। एक अध्ययन के अनुसार विटामिन-सी युक्त भोजन न लेने वाले लोगों में गठिया का खतरा विटामिन-सी का सेवन करने वालों के मुकाबले तीन गुना होता है।

कोलेस्ट्रॉल कम करन में सहायक :-
पपीते में उच्च मात्रा में फाइबर मौजूद होता है. साथ ही ये विटामिन सी और एंटीऑक्सीडेंट्स से भी भरपूर होता है. अपने इन्हीं गुणों के चलते ये कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करने में काफी असरदार है|
हो किसी प्रकार के विटामिन की कमी :-
शरीर में विटामिन्स की कमी की वजह से कई तरह से कमजोरी आ सकती है। यदि आपके शरीर में किसी भी तरह के विटामिन की कमी हो गई हो तो आप कच्चा पपीता जरूर खाएं।
माहवारी के दर्द से छुटकारा दिलाता है :-
माहवारी के दर्द से गुज़र रही महिलाओं को अपने आहार में पपीता ज़रूर जोड़ना चाहिए क्योंकि पापिन नाम एंजाइम माहवारी के दौरान रक्त के प्रवाह को दर्द से दूर रखता है। 

बैक्‍टीरिया की ग्रोथ रोके :-

पपीते की पत्‍तियों में 50 एक्‍टिव सामग्रियां होती हैं जो कि सूक्ष्मजीवों जैसे फंगस, कीड़े, परजीवी और कैंसर कोशिकाओं के विभिन्न अन्य रूपों को बढने से रोकती हैं।











Friday, February 17, 2017

ब्लड प्रेशर को नियंत्रित रखे लहसुन (Garlic should control blood pressure)

No comments

ब्लड प्रेशर को नियंत्रित रखे लहसुन

(Garlic should control blood pressure)

Garlic


भारतीय खाने में यूँ तो लहसून का स्वाद नया नहीं है|चाहे चटनी हो, या तड़का , या फिर सब्जी में स्वाद बढ़ाने के लिये डाला गया हो, लहसून किसी भी चीज़ का स्वाद बढ़ाने के लिये काफी होता है .पर सिर्फ स्वाद ही नहीं लहसून आपकी सेहत की अनिवार्य ज़रूरत भी पूरी करता है रक्तचाप दो प्रकार का होता है पहला, उच्च रक्तचाप और दूसरा, निम्न रक्तचाप। उच्च रक्तचाप में शरीर की धमनियां कड़ी पड़ जाती हैं। यह रोग मधुमेह, अजीर्ण एवं गुर्दे की खराबी से होता है। निम्न रक्तचाप में हृदय पूरे दबाव से रक्त को धमनियों में नहीं फेंक पाता। इसी कारण रक्तचाप सामान्य से नीचे आ जाता है। इस रोग में चक्कर, सुस्ती और कमजोरी के लक्षण प्रकट होते हैं। कभी-कभी रोगी बेहोश भी हो जाता है। लहसुन में एलीसिन नामक एक पदार्थ होता है जो लहसुन की तेज गंध और हाइपोसेंस्‍टिविटी को पैदा करता है। हाइपोसेंस्‍टिव प्रभाव, लाल रक्त कोशिका को बढाने और नाइट्रिक ऑक्साइड के मेटाबॉलिज्‍म को बैलेंस करने में मदद करता है। कई लागों को तेज गंध वाला लहसुन खाने में परेशानी होती है और वे गार्लिक सप्‍पलीमेंट्स लेना शुरु कर देते हैं। लेकिन यह उतना असरदार नहीं होता जितना कि साबुत लहसुन खाने से होता है।


उच्च रक्तचाप का उपचार ( high blood pressure ka gharelu ilaj ):-


दिल की सेहत के लिए खाएं लहसुन :- लहसुन खाने से न सिर्फ बैड कोलेस्ट्रॉल का स्तर कम होता है ‌बल्कि आबपका दिल भी हमेशा फिट रहता है। इसमें ऐसे तत्व होते हैं जो शरीर में गुड कॉलेस्ट्रॉल के स्तर को बढ़ाते हैं जिनसे बैड कोलेस्ट्रॉल को खत्म करने में आसानी होती है। हाइपरटेंशन और हाई ब्लड प्रेशर के मरीजों को प्रतिदिन कम से कम लहसुन के दो जवे जरूर खाने चाहिए। इसमें मौजूद एलिसिन नामक तत्व हाई बीपी को सामान्य करने में मददगार है। 

शहद  शहद का सेवन करने से रक्तवाहिकाओं की उत्तेजना शांत होती है। इस कारण उच्च रक्तचाप सामान्य हो जाता है।
नीम  प्रात:काल 25 ग्राम नीम की पत्ती का रस लेना उच्च रक्तचाप में बहुत लाभदायक सिद्ध होता है।

गठिया :-गठिया के दर्द में आराम के लिए भी लहसुन का इस्तेमाल फायदेमंद है. गठिया के मरीजों के लिए ये एक अचूक दवा है. इसका एंटी-ऑक्सीडेंट और एंटी-इंफ्लेमेट्री गुण गठिया के दर्द में काफी आराम पहुंचाता है. लहसुन को अपनी डाइट का हिस्सा बनाकर आप गठिया के दर्द में आराम पा सकते हैं|

पाचन तंत्र :-लहसुन का इस्तेमाल पाचन तंत्र को भी मजबूत करता है. इसमें मौजूद कई पोषक तत्व खाने को पचाने में मदद करते हैं. इसके साथ कई रिसर्च में ये भी कहा गया है कि लहसुन का इस्तेमाल कैंसर से बचाव में भी मदद करता है. लहसुन का इस्तेमाल करने वालों में कैंसर होने के चांसेज काफी कम हो जाते हैं

ब्लड क्लॉटिंग से बचाता है लहसुन :-
लहसुन का सेवन उन लोगों के लिए भी बहुत फायदेमंद हैं जिनका खून अधिक गाढ़ा होता है। यह ब्लड क्लॉटिंग को रोकता है, खून पतला करता है और रक्त प्रवाह सुचारू करता है।

कैंसर से लड़ने में मददगार है लहसुन :-
लहसुन शरीर की प्रतिरोधी क्षमता बढ़ाता है और कैंसर जैसे गंभीर रोग से लड़ने में शरीर की मदद करता है। चिकित्सिक पैनिक्रयाज, कोलोक्टोरल, ब्रेस्ट और प्रोस्टेट कैंसर में लहसुन के कच्चे जवे खाने की सलाह देते हैं।

फंगल इंफेक्शन में भी लहसुन काफी फायदेमंद है. कई बार पैरों की उंगलियों के बीच में फंगल इंफेक्शन हो जाता है. प्रतिदिन की डाइट में कच्चे लहसुन का इस्तेमाल करने से ऐसी बीमारियां दूर रहती हैं साथ ही उस जगह पर कच्चे लहसुन को पीसकर लगाने से भी फायदा होगा

कैसे करें लहसुन का सेवन  1जो लोग टी.बी. की समस्या से जूझ रहे हैं उन्हें रोजाना सुबह खाली पेट लहसुन का सेवन करना चाहिए।

2. जिन लोगों के दांत में कीड़ा लगा है या दांत दर्द की समस्या से जूझ रहे हैं उन लोगों को लहसुन को गर्म करके दर्द वाले दांत के नीचे कुछ देर के लिए रख देना चाहिए। इससे दांत का दर्द भी गायब हो जाएगा। खासकर रात के समय यदि ऐसा करें तो बेहद फायदेमंद साबित होगा क्योंकि दांत की समस्या रात के समय खाने के बाद ज्यादा होती है।

अगर आप दिल के रोगी हैं तो आपके लिए लहसुन बहुत ही फायदेमंद होता है। इसमें सल्फाबइड पाया जाता है, लहसुन एलडीएल कोलेस्ट्रॉयल लेवल को कम कर के हार्ट अटैक और ब्लॉैकेज को रोकता है।
लहसुन आपके शरीर में ब्लेड सर्कुलेशन को भी बेहतर करता है। यह त्व‍चा को भी बेहतरीन बनाता है और शरीर से गंदगी को भी बाहर निकालता है।
लहसुन का रस लेने से शरीर की सारी गंदगी त्वचा के रोम छिद्र के द्रारा बाहर निकल जाती है।
संक्रमण से बचाता है लहसुन
लहसुन के सेवन से शरीर में टी-सेल्स, फैगोसाइट्स, लिंफोसाइट्स आदि प्रतिरोधी तत्व बढ़ते हैं और शरीर की प्रतिरोधी क्षमता बढ़ जाती है। इससे किसी भी प्रकार के संक्रमण का प्रभाव शरीर को तुरंत नहीं होता।
पेट साफ करने के लिए
लहसुन में शरीर के विषाक्त पदार्थों को साफ करने का गुण होता है. साथ ही ये पेट में मौजूद बैक्टीरिया को भी दूर करने में मददगार होता है. खासतौर पर जब इसे खाली पेट खाया जाए|
लहसुन ( lahsun ) शरीर के सभी रोगों को ठीक करने में सक्षम होता है। यह रक्त को पतला  करता है । ये अच्छे कोलेस्ट्रॉल ( HDL ) को बढ़ाता है और बुरे कोलेस्ट्रॉल  ( LDL ) को कम करता है। इसका एलिसिन तत्व हाई ब्लड प्रेशर को कम बनाये रखने में मददगार होता है।लहसुन नियमित खाने से ब्लड क्लोटिंग की समस्या से बचाव हो सकता है। ये शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है जिससे कई प्रकार की बीमारियां दूर रहती है।

दांतों के दर्द में फायदेमंद :-
आपको जानकर हैरानी होगी लेकिन लहसुन के सेवन से दांतों के दर्द में आराम मिलता है। लहसुन को लौंग के साथ पीसकर दांतों के दर्द वाले हिस्से पर लगाने से दर्द से तुरंत राहत मिलती है।
गर्भावस्था में फायदेमंद
गर्भावस्था के दौरान लहसुन का नियमित सेवन मां और शिशु, दोनों के स्वास्थ्य के लिए बेहद फायदेमंद है। यह गर्भ के भीतर शिशु के वजन को बढ़ाने में सहायक है। 

रक्त का थक्का (blood clot)बनने में सहायता करता है:-
एजोइन यौगिक रक्त का थक्का बनाने में मदद करता है। जिनको हृदय संबंधी बीमारी होती हैं और रक्त का थक्का बनने में देर होता है उनके लिए यह राम बाण का काम करता है।
टिप- रोज सुबह खाली पेट लहसुन का एक फाँक खाना स्वास्थ्य के लिए अच्छा होता है।









Tuesday, February 14, 2017

बादाम (Almonds) के फायदे

No comments
                   बादाम (Almonds)


बादाम जिसे हम English में Almond बोलते हैं एक बहुत ही स्वास्थयवर्धक  ड्राइ फ्रूट माना जाता है और इसलिए पूरी दुनिया मे इसका भरपूर उपयोग किया जाता है|बादाम देखने में तो छोटा होता है,लेकिन इसके फायदे बड़े-बड़े हैं| बादाम आप समय-समय पर खाते होंगे, लेकिन शायद आप बादाम के गुणकारी प्रभाव को नहीं जानते होंगे|तो चलिए आज हम जानते हैं कि बादाम खाने के क्या-क्या फायदे हैं, बादाम तेल के क्या-क्या फायदे हैं| बादाम हमें कौन-कौन सी बीमारियों से बचाता है और किन चोजों में यह फायदेमंद है. और इसका उपयोग कैसे करना चाहिएसुबह उठकर भीगे हुए बादाम खाने की सलाह तो हमेशा ही दी जाती रही है। कई अलग-अलग रिसर्च में भी साबित हो चुका है कि बादाम का नियमित सेवन अनेक बीमारियों से बचाव में मददगार है।अक्सर माना जाता है कि बादाम खाने से याददाश्त बढ़ती है। लेकिन यह ड्राय फ्रूट कई रोगों से हमारी रक्षा भी करता है|बादाम का सेवन करने से शरीर में गर्माहट बनी रहती है बादाम एक ऐसा मेवा है जो हमारी सुंदरता और दिमाग को बढ़ाने में काफी लाभदायक सिद्ध हुआ है। बहुत से लोगों का यह मानना है की बादाम के सेवन से मोटापा बढ़ता है लेकिन यह एक बिल्कुल ही गलत अवधारणा है लेकिन बादाम के सेवन से मोटापा तो नहीं बढ़ता बल्कि शरीर में ताकत तो अवश्य ही आ जाती है ।स्वस्थ‍ रहने के लिए प्रतिदिन बादाम का सेवन करें। बादाम में प्रोटीन, वसा, विटामिन और मिनेरल पर्याप्त मात्रा में होते हैं, इसलिए यह स्वास्‍थ्‍य के लिए तो अच्छा है ही, त्वचा के लिए भी अच्छा है। बादाम में मौजूद पोषक तत्व याद्दाश्त बढ़ाने का भी काम करते हैं
बादाम के फायदे :-

रोज खायें बादाम रहें सेहतमंद:-

स्वस्थ‍ रहने के लिए प्रतिदिन बादाम का सेवन करें। बादाम में प्रोटीन, वसा, विटामिन और मिनेरल पर्याप्त मात्रा में होते हैं, इसलिए यह स्वास्‍थ्‍य के लिए तो अच्छा है ही, त्वचा के लिए भी अच्छा है। बादाम में मौजूद पोषक तत्व याद्दाश्त बढ़ाने का भी काम करते हैं। 


 खाली पेट खाए बादाम :- लोगों का यह कहना है की बादाम रात भर भिगोकर रखना चाहिए फिर सुबह उठकर भीगे हुए बादाम के छिलके निकाल कर इनका सेवन सुबह खाली पेट करना चाहिए लेकिन हाल ही के रिसर्च में पता चला है बादाम का सेवन छिलकों सहित करना चाहिए जिससे हमारे शरीर कि प्रतिरोधक क्षमता बढती है


 बदाम बुद्धि बढ़ाता है :- बादाम में ऐसे पौषिक तत्व पाए जाते हैं जो की मस्तिष्क के विकास के लिए बहुत अच्छे होते हैं| ये बच्चों के मस्तिष्क के लिए बहुत ही फायदेमंद होते हैं! गर्मी के दिनों में 8-10 बादाम की गिरी को रात में पानी में भिगोकर सुबह छिलका उतार कर खाना से पढ़ने वाले बच्चों के लिए तो यह बहुत ही फायदेमंद सिद्ध होता हैं|


दिल को बनाये सेहतमंद :-

बादाम आपके दिल को सेहतमंद बनाये रखने का काम करता है। शोधों में यह बात सामने आयी है कि सप्‍ताह में पांच दिन बादाम का सेवन करने वाले लोगों में सामान्‍य लोगों की अपेक्षा हृदयाघात का खतरा 50 फीसदी तक कम होता है। बादाम में मौजूद विटामिन ई, एण्टीआक्सीडेंट की तरह काम करता है। यह दिल की बीमारियों को दूर रख उसे बेहतर तरीके से काम करने में मदद करता है।

बादाम ब्लडप्रेशर को नियंत्रित रखने में हमारी मदद करता है :-गर्भवती महिलाओं के लिए भी यह बहुत फायदेमंद है, इसके सेवन से बच्चा स्वस्थ्य पैदा होता है|बादाम शरीर की उर्जा क्षमता बढ़ाता है, और इसे ज्यादा सक्रिय रखता है |बादाम में प्रोटीन और आयरन पाया जाता है, जो हमारे शरीर के लिए फायदेमंद होता है |
वजन करे कंट्रोल में (Weight loss ) :- जो लोग वेट लॉस करके अपना वजन सही करना चाहते हैं उनकी ये छोटा सा बादाम काफ़ी मदद कर सकता है| इस ड्राइ फ्रूट में mono unsaturated fats पाए जाते हैं जो की आपको ओवर ईटिंग (जयादा खाना) से रोकते हैं| साथ ही इसमें पाए जाने वाले fiber आपको तृप्त होने की फीलिंग देकर आपको कम कैलोरीज खाने पर मजबूर करते हैं| रिसर्च में ये पाया जा चूका है की बादाम युक्त low कॅलरी डाइट मोटे लोगों को उनका  वजन  घटाने में मदद करती है| साथ ही रिसर्च में ये भी पाया गया है की जो लोग इसे नही खाते उनको idealबॉडी वेट मेनटेन करने में प्राब्लम होती है| साथ ही ये आपको एक्सर्साइज़ करने की एनर्जी देते है और आपको कब्ज की समस्या से भी बचने में मदद करते हैं| बादामआपके शरीर में टॉक्सिन्स (विषेले तत्व )को जमने से रोकता है| रोज सुबह रात में भिगोए हुए बादाम दूध के साथ पीने से आपको फ़ायदा होगा|वजन कम होने का एक कारण ये भी है की इन ड्राइ फ्रूट का प्रोटीन आपके मसल मास को बढ़ने में हेल्प करता है और आप जानते हैं मसल अधिक होने का मतलब है बॉडी में फट कम होना क्योंकि मसल टिश्यूस को fat बर्निंग factories भी कहा जाता है|ऐसा कहा जाता है की एक बादाम हर 10 पाउंड्स बॉडी वेट के लिए खाना वजन कम करने में मदद करता है|
कैंसर रखे दूर:- 1990 में की गयी एक रिसर्च में ये पाया गया के laetrile यानी विटामिन B17 पाए जाने के कारण बादाम में कैंसर से लड़ने के और उम्र लंबी करने के अदभुत गुण पाए जाते हैं| साथ ही बुरे फॅट्स की कमी और विटामिन E की अधिकता इसे अच्छा कॅन्सर फाइटिंग फ़ूड बना देती है| इतना ही नही इसमें पाए जाने वाले असरदार एंटी ऑक्सिडेंट्स colon कॅन्सर, प्रॉस्टेट और ब्रेस्ट कैंसर रोकने में काफ़ी अच्छी भूमिका निभाते हैं| हम कह सकते हाइन की ये एक अच्छा एंटी-कैंसर फ़ूड है|

बादाम के सुन्दर तत्व :- बादाम के अन्दर मैग्नीशियम भी होता है जो दिल के दौरे को ठीक करने में मददगार सिद्ध होता है| बादाम खाने से त्वचा अच्छी रहती है| बादाम का तेल छोटे बच्चों की मालिश के लिए बहुत लाभदायक होता है| बादाम के अन्दर पोटेशियम होता है जो की ब्लड प्रेशर को स्वस्थ रखता है| इसको खाने से क्लोन केंसर से बचा जा सकता है|


याद्दाश्त बढ़ाये:-

स्‍मरण शक्ति को अच्‍छा बनाये रखने के लिए बादाम को काफी उपयोगी माना जाता है। बादाम का सेवन अल्‍जाइमर और अन्‍य मस्तिष्‍क संबंधी रोगों को दूर करने में मदद करता है। रोजाना सुबह पांच बादाम भिगोकर खाने से दिमाग तेज होता है।

बादाम के त्वचा के लिए फायदे :- बादाम खाने से आपको अंदर से बेदाग और स्वस्थ त्वचा पाने में हेल्प मिलती है| इनका रोजाना सेवन आपकी आँखों के नीचे से काले घेरे हटा सकता है| इसी प्रकार बादाम तेल को उन घेरों पर रोजाना लगाने से भी वो कुछ ही दीनो में गायब हो जाते हैं| इस ड्राइ फ्रूट के न्यूट्रियेंट्स आपकी स्किन प्रॉब्लम्स जैसे wrinkles, blackheads, acne, पिम्पल्स, डार्क स्किन को दूर करके आपको गोरी निखरी बेदाग त्वचा देते हैं| यदि आपको आपनी स्किन ग्लोयिंग बनाना है तो इन्हे रोजाना सुबह और शाम दूध के साथ खायें| नीचे कुछ बादाम फेस मास्क दिए गये हैं जो की आपके लिए काफ़ी उपयोगी साबित हो सकते हैं|रात में पानी में भिगो कर रखे हुए almonds की पेस्ट दूध के साथ बनाएं| इसे आधा घंटा अपने फेस पर लगा कर रखें.|ये फेस मास्क आपको कुछ ही दीनो में गोरी निखरी बेदाग स्किन का धनी बना देगा|
यदि आपकी स्किन ड्राइ और डार्क हो रही है तो आपको बादाम की पेस्ट में हनी मिलकर अपनी स्किन पर लगाना है| इस मास्क से आपकी स्किन moisturized होगी और आप जानते हैं की अच्छी तरह से moisturized स्किन ही  ग्लोयिंग स्किन होती है|फेस को गोरा करने के लिए बादाम पेस्ट में एक egg white और तोड़ा सा नींबू का रस मिलाकर अपने फेस पर लगाइए| सूखने के बाद धो लीजिए| ऐसा हफ्ते में 3-4 बार करने से आपको मिलेगा बेदाग गोरापन|almond oil से रात को सोने से पहले अपने फेस की मसाज करिए| ऐसा करने से आपकी स्किन ग्लोयिंग हो जाएगी और समय के साथ डार्कनेस भी कम होगी|बादाम की पेस्ट में चंदन के तेल की कुछ बूँदें और गुलाब जल मिलकर एक पतला सल्यूशन बानिए| इसे डार्क स्किन पर रोजाना लगाने से वो गोरी होने लगेगी|स्किन पर blackheads  हों तो बादाम के पाउडर में गुलाब जल मिलकर blackheads पर कुछ देर रगडें और  20 मिनिट्स बाद धो लें|यदि आपको अपनी स्किन स्क्रब करनी है तो मार्केट से लाए हुए हानिकारक स्क्रब छोड़िए बस बादाम की दानेदार पेस्ट बना कर उसमें थोड़ी सी मलाई मिला लें| इस पेस्ट को स्क्रब की तरह प्रयोग करें| आपकी स्किन सॉफ्ट और चिकनी कुछ ही मिनिट्स में बन जाएगी|

बालों की समस्‍याओं से बचाये:-

बादाम का तेल बालों की सभी प्रकार की समस्‍याओं को दूर करने में मदद करता है। इससे बालों का गिरना, डैंड्रफ और असमय सफेद होना रुकता है। इसके साथ ही यह बालों को जड़ों से मजबूत बनाने का काम भी करता है। और साथ ही उन्‍हें चमकदार और घना भी बनाता है।














कच्‍चे पपीते के स्‍वास्‍थ्‍य लाभ(Crude papaya health benefits)

कच्‍चे पपीते के स्‍वास्‍थ्‍य लाभ (Crude papaya health benefits) Papaya आप पके हुए पपीते का इस्तेमाल अधिक करते हो। यह आपकी सेहत के ...

Popular Posts